आशावादी कैसे बने

जब आपको जीवन मे कुछ भी नहीं सूझे आपको महसूस हो कुछ भी अच्छा नहीं हो रहा है।आपके साथ सब कुछ अलग ही हो रहा है हर क्षेत्र मे चाहें वो धन का मामला हो चाहें रोजगार का हो तब कुछ समय के लिए आप शांत हो जाये उससे आपको ये पता चलेगा समय का रुख किस तरफ है निराश ना हो। बल्कि आप परिपक्व हो जायेंगे वक्त के थपेड़ो से। कुछ समय के लिए खुद को आराम दे खुद को स्थिर कर दे उससे क्या होगा आपको एक नया आयाम आराम के तौर पर मिलेगा और आप फिर से नया स्टार्ट कर पाएंगे।मेरे कहने का मतलब है जिंदगी हर कदम पर हर नए तज़ुर्बे और लक्ष्य देती है तो चिंता मत कीजिये।मोके देती है निराशा मे भी आशा छुपी हुई है।अंत भला तो सब भला ।


क्यों की जीवन हमेशा उतार चढ़ाव से भरपूर रहेगा समय कैसा भी हो जीना तो है ही तो खुशी से क्यों ना  जिया जाए वास्तव में सच्चाई तो ये ही हम खाली हाथ आते है और खाली हाथ जाते है तो क्यों पचड़े में पड़ना खामखां इसके लिए हमेशा आशावादी रहे सकारात्मक सोचे इससे सबसे ज्यादा प्रभाव तो सेहत और सोच पर पड़ेगा अच्छे विचार आएंगे मन प्रफुल्लित रहेगा भावनाओ और मानसिक विकास चरम पर होगा काम में मन लगेगा तो ऐसा करने से ही लाभ होगा ईमानदारी से काम करने से लाभ होता है ऐसा पैसा ही जेब में और बैंक में टिकता है अन्यथा तो आप खुद सोच सकते है आज के समय में किसकी कितनी लिखी है कौन जानता है और कौन समझता है। तो खुश रहे और एंजॉय करे जो भी होता है अच्छे के लिए होता है ऐसा सोचे और समझे.