संसाधन के अभाव में काढ़ा कैसे बनाए जाने बस दो सामान की पड़ेगी जरूरत

Table of content गिलोय का काढ़ा कैसे बनाए ? गिलोय में क्या मिलाएं ? काढ़ा फूल डिटेल हिंदी ? पपीते के पत्ते कैसे मिलाएं ? अगर आप दूर देश या अकेले किसी गाव में रहते है आपके पास संसाधनों की कमी है तो बस आपको आज मैं 2 चीज़े बताने जा रहा हूं जिससे आपकी […]

आंवले का मुरब्बा में सफेद हो गया है क्या कारण है?

आंवला हमारी सेहत के लिए एक फायदे वाली चीज है इससे शरीर स्वस्थ रहता है आंखो की रोशनी भी ठीक रहती है पेट साफ रहता है शरीर का कचरा बाहर निकलता है जहा आंवले के उपर सफेद सा लग जाता है उसका मतलब वो नहीं होता के आंवला खराब हो गया है बल्कि आंवला का […]

गर्भवती महिलाओं के लिए पर दादी के नुस्खे

तुलसी के बीज में जो लेपक गुण होता है और वह पुरुषों की जननेन्द्रिय संबंधी रोगों में भी विशेष लाभदायक सिद्ध होता है कुछ लोगो का तो ऐसा विश्वास है तुलसी स्त्री वाचक पोधा है और कथाओं में उसे विष्णु प्रिय भी कहा जाता है इससे वह स्त्री रोगों को दूर करने और उनके स्वास्थ्य […]

वीर्य रक्षा कैसे करे और शारीरिक बल प्राप्त करे कैसे ?

तुलसी के बीज अधिक लसदार और लेपक होते है । और मूत्र संस्थान के विकारों में दिए जाते है। तुलसी की जड़ को भी बहुत अधिक स्तभन गुण युक्त बतलाया जाता है। ये बीज बहुत जल्द लुवाव छोड़ते है। और थोड़ी ही देर में लसदर झिल्ली के रूप में बदल जाते है। इसलिए इनको गुड […]

तुलसी करे निरोगी

जब से संसार में सभ्यता का उदय हुआ है मनुष्य रोग और औषधि दोनों शब्दों को दिन प्रति दिन सुनते आए है । आज के आधुनिक युग में हर आदमी दवाई खाता है। जब भी हमें अपने शरीर में विकारों का भाव होता है एक दम डॉक्टर या मेडिकल स्टोर की तरफ दौड़ पड़ते है […]

तुलसी से खाज खुजली दूर करे

तुलसी में सोधक और कीटाणु नाशक गुण विशेष रूप से होते है ।आधुनिक खोजो के अनुसार उसमे एक उदनशिल तेल रहता है । जिसकी गंध से कई प्रकार के हानिकारक कीटाणु नष्ट हो जाते है चरक के विष चिकित्सा में तुलसी का उल्लेख कई स्थानों  पर किया गया है ।इसमें जतुघ्न तथा विषग्न गुण बतलाए […]

तुलसी के लाभ

table of content नशा दूर करे गले क दर्द से मुक्ति बवासीर मे लाभ 1. किसी भी प्रकार के विष जैसे अफीम कुचला धतूरा आदि खा जाने पर तुलसी के पत्तो को पीसकर गाय के घी में मिलाकर पीने से आराम होता है घी की मात्रा अवस्था के अनुसार पाव भर से आधा सेर तक […]